सबसे हसीं मुलाक़ात ..!!

ये परियों की रानी और वो फरिश्तों का शहज़ादा मिले कुछ यूँ किसी मोड़ पर कि अभी बाकी था रास्ता आधे से ज्यादा मिल तो चुके थे ये पहले भी कई बार यूँ ही आज तो मिलना हुआ था यूँ अनायास ही नहीं तो भूले-भटके एक-दूजे को याद कर लिया जाता मग़र आजकुछ हुआ यूँContinue reading “सबसे हसीं मुलाक़ात ..!!”

Food for thought…Please think and suggest

What and why we think or observe a difference among indifferent people? When there is nothing like that, in reality. Who r we???? hindu or muslim???? when there is “ALI” in diwALI & “RAM” in RAMzan, then y r we thinking that which religion we belong to ???????? plzzzzzzzzzz help India in being united’we areContinue reading “Food for thought…Please think and suggest”

मेरे आशना से एक वादा

गाया तो था मैंने हर लम्हा तेरी जुदायी में कैसे जिया था मैंने इतना वक्त तन्हाई में तुझको नहीं खबर मेरे क़मर तरस गए नैन तेरे खुशगवार दीदार को और आस में तेरे पास आने कि दिल भी था बोझिल तेरे सामने होने पर भी जो तू दूर रहा तो न जाने कितना सताया तेरीContinue reading “मेरे आशना से एक वादा”

लेंगे लेंगे अधिकार हमारे

जंगल अपना, ज़मीन अपनीपर न कोई कागज़, न ही टपरीसरकार बदली, क़ायदा बदलाआदिवासी का हक़ भी बदला तुम्हारी ये नव नियम कुंडलीहमसे क्यूँ ये ज़मीं छीन ली? अरे! तीन पुश्तों की बात करते होसदियों पुरानी कब्र दबा लीये कैसी सरकार हमारी?अधिकार दिया पर ज़ुबां छीन ली ग्राम सभा कहे हम मूल निवासीफिर कहे न मानेContinue reading “लेंगे लेंगे अधिकार हमारे”